Uncategorized

जाने क्या है हरी चाय के फायदे और नुक्सान ?

loading...

चाय एक ऐसा पेय पदार्थ है, जिसे लगभग दुनिया के हर कोने में हर घर में इस्तेमाल किया जाता है। अगर यूं कहें कि यह 1 तरीके का नशीला पदार्थ है। जिसका असर पूरी दुनिया पर हावी हो चुका है। ज्यादातर लोग बिना चाय की चुस्की के अपने आप को असहाय महसूस करते हैं। अगर उनको चाय ना मिले तो वह अच्छा महसूस नहीं करते। चाय एक प्रकार से प्राकृतिक उपहार है. या यूं कहें प्राकृतिक की देन है। इसकी खेती की जाती है और चाय की खेती से कई तरह की चाय बनाई जाती हैं। उनकी किस्मों के आधार पर चाय का मूल्य तय होता है। और चाय बनाने की प्रक्रिया के अनुसार चाय के गुण व अवगुण होते हैं। ग्रीन टी पीने के फायदे नुक्सान

ग्रीन टी पीने के फायदे

ग्रीन टी पीने के फायदे

वैसे तो सभी लोग चाय पीना पसंद करते हैं। लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं। जिन्हें चाय बिल्कुल भी पसंद नहीं होती है। इसका मतलब यह नहीं कि चाय नहीं पीना चाहिए। पीना चाहिए। लेकिन हर चीज का अपना एक सीमित दायरा होता है। अगर संतुलित रूप से किसी भी चीज का सेवन किया जाए तो वह नुकसान नहीं करता। तो आज हम यहां बात कर रहे हैं ग्रीन टी की यानी हरी चाय।

 

ग्रीन टी पीने के फायदे एवम नुकसान जरुर पढ़े

हरी चाय दिमाग पर सीधा असर करती है। और हमारे मस्तिष्क की कार्य प्रणाली को प्रभावित करती है। कि क्योंकि इसमें एक नशीला पदार्थ के कैफीन पाया जाता है। जो कि दिमाग को तेज़ी से कार्य करने के लिए उत्साहित करता है। इसलिए शरीर में थकावट होने पर लोग चाय का इस्तेमाल करते हैं। और अपने आप को फिर से तरोताजा महसूस करते हैं। यहां पर बात करेंगे हरी चाय या ग्रीन टी पीने के फायदे और नुकसान की।
चाय की खेती भारत के अलावा संसार में और भी कई देशों में की जाती की जाती हैं। चाय की वैसे तो बहुत से किसमें हैं। जिनके आधार पर उनका मूल्य और गुणवत्ता निर्धारित होती है। हरी चाय बनाने की विधि आसान है। हरी चाय के पत्तियों को सीधे धुप और छाया में सुखाया जाता है। जिससे उसका रंग हरा ही रहता है। और इसमें कैफीन की मात्रा भी बहुत अधिक होती है। जबकि लाल व काली चाय को भाप देकर सूखते है। जिसकी वजह से वह काली पड़ जाती है। और उसमें कैफीन की मात्रा भी कम हो जाती है।

ग्रीन टी पीने के फायदे : ग्रीन टी पीने के आयुर्वेदिक घरेलु फायदे

कैफीन एक नशीला पदार्थ है। जो कि सीधे सीधे दिमाग को प्रभावित करता है। और दिमाग को तेजी से काम करने के लिए उकसाता है।

ग्रीन टी पीने के फायदे : हरी चाय पीने से शरीर में ताजगी का अहसास होता है। यदि आप लगातार काम कर रहे हैं। और आपको थकावट महसूस हो रही है। तो आप एक कप हरी चाय पीए। आपको एक का प्याला फिर से तरोताजा कर देगा। हरी चाय का इस्तेमाल ज्यादातर मोटापा घटाने के लिए आजकल किया जाता है। आजकल मोटापा बहुत तेजी से बढ़ रहा है। क्योंकि लोग अपने खानपान और रहन-सहन को मेंटेन नहीं रख पाते। उनकी दिनचर्या बदलती जा रही है। ज्यादातर वही लोग मोटापे का शिकार होते हैं जो शारीरिक मेहनत नहीं करते और फिर मोटापे से परेशान होकर उनको घटाने की नाकाम कोशिश करते रहते हैं तो – उनके लिए मोटापा घटाना का आसान तरीका है। (ग्रीन टी पीने के फायदे )

हरी चाय का सेवन– क्योंकि इसके सेवन करने से उनकी भूख कम हो जाती है और चर्बी को गलाने का भी काम हरी चाय करती है। हरी चाय के प्याले को दिन में तीन चार बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैंसर में भी उपयोगी है हरी चाय। कई प्रकार के शोधों से है पता चला है कि हरी चाय कैंसर रोग रोगियों के लिए एक फायदेमंद औषधि है। गिरीन चाय के इस्तेमाल से कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से बचा जा सकता है।

इस से स्त्रियों के स्तन कैंसर की होने की संभावना को कम किया जा सकता है।

  1. ग्रीन चाय खून में ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करता है। हरी चाय पीने से बढ़ती उम्र पर रोक लगाया जा सकता है।
  2. उम्र के बढ़ने के साथ साथ शरीर में ढीलापन हो जाता है। जिसके कारण शरीर और चेहरे पर झुर्रियां साफ़ दिखाई देने लगती हैं। इसके लिए आप नियमित हरी चाय का इस्तेमाल करने से आपके चेहरे की झुर्रियों पर रोक लग सकती है।

दिल की बीमारी के लिए भी हरी चाय, ग्रीन टी पीने के फायदे

  1. दिल की बीमारी के लिए भी हरी चाय फायदेमंद है। क्योंकि यह खून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कंट्रोल करता है। जिसके वजह से हृदय रोग होने की संभावना काफी कम हो जाती है। हरी चाय पीने के स्वास्थवर्धक बहुत सारे फायदे हैं।
  2. इसके द्वारा आपका शरीर सुंदर बन सकता है। बालों की समस्या कम हो सकती है। और बढ़ा हुआ वजन कम हो जाता है। शरीर में फालतू चर्बी गल कर हट जाती है। इसके अलावा शरीर की गंदगी भी बाहर हो जाती है।

ग्रीन टी पीने के नुकसान

लेकिन इसके फायदे के साथ-साथ इसके नुकसान भी हैं। यदि ग्रीन टी का इस्तेमाल एक सीमित मात्रा से ज्यादा किया जाता है। तो इसके कई दुष्परिणाम होते हैं। वैसे ज्यादा हरी चाय पीने से आपके पेट में कब्ज हो सकती है, उल्टी हो सकती है, चक्कर आ सकते हैं, और यह आप के सर में दर्द भी पैदा कर सकती है।

इसका मुख्य कारण यह है- कि हरी चाय में कैफीन की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। जो आपको नींद ना आने की बीमारी दे सकती है। इसलिए आपको ग्रीन टी हरी चाय का इस्तेमाल सोच समझ कर और किसी विशेषज्ञ सलाह लेकर या उनकी देखरेख में ही करना चाहिए।

यदि आपको ग्रीन चाय पीना ही है। और उसका फायदा लेना है तो- आपको कुछ तरीके दिए जा रहे हैं। जिससे आप ग्रीन चाय का इस्तेमाल कर सकते हैं, और फायदा ले सकते हैं ,

चाय पीने की प्रतिदिन की मात्रा- आप यदि ग्रीन चाय का इस्तेमाल कर रहे हैं। तो आप हर दिन दो-तीन कप से ज्यादा ना लें। यदि इससे अधिक मात्रा से ज्यादा आप इसका इस्तेमाल करते हैं। तो आप को नुकसान कर सकती है।

क्योंकि इसमें कैफीन बहुत अधिक मात्रा में होता है। इसलिए आप प्रतिदिन २-3 सबसे ज्यादा हरी चाय का सेवन ना करें।

किसी प्रकार की औषधि के साथ ग्रीन टी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए : यदि आपको कोई बीमारी है। और आप उसका उपचार करा रहे हैं तो दवाई लेते समय ग्रीन टी ना पिए या दवाई के तुरंत बाद या तुरंत पहले ग्रीन टी नहीं पीनी चाहिए।

यदि आपको अच्छे परिणाम चाहिए तो यदि आप वजन घटाने के लिए हरी चाय का इस्तेमाल कर रहे हैं तो :

इसको लेने का सही तरीका यह है कि आप भोजन करने से एक घंटा पहले- ऐसा करने से आपके भूख में कमी आएगी और आप कम भोजन खाएंगे। जिससे आपका वजन नियंत्रित रहेगा और आपको मोटापे से छुटकारा मिलने की पूरी संभावना रहेगी।

  1. कभी भी हरी चाय को ज्यादा स्ट्रांग बनाकर नहीं पीना चाहिए। ज्यादा स्ट्रांग पीने से आपके शरीर पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है। जैसे आपको नींद ना आने की बीमारी हो सकती है। और चक्कर भी आ सकते हैं।
  2. यहां स्ट्रांग हरी चाय से मतलब है कि जब वह ज्यादा कड़वी ना हो। हमेशा इस बात का ध्यान रखें: कभी भी ज्यादा देर की बनी हुई हरी चाय ना पिएं।

यह स्वास्थ्य के लिए अच्छी नहीं होती। यदि आपको हरी चाय का इस्तेमाल करना है तो उसे आप ताजा बनाकर ही पिए। और स्टोर की हुई या लंबे समय से बनी हुई चाय का इस्तेमाल ना करें। क्योंकि लंबे समय से बनी हुई या ज्यादा देर के बनी हुई हरी चाय में विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट खत्म हो जाते हैं। और इसमें उपस्थित जीवाणु रोधी वह भी नष्ट हो जाते हैं। और सही मायने में ज्यादा देर से रखी हुई बासी चाय पीने से आप बीमारियों को ही न्योता देते हैं। क्योंकि इसके अंदर बैक्ट्रिया उत्पन्न होने लगते हैं। जो कि आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत ही नुकसानदायक है।

इसलिए आप हरी चाय का इस्तेमाल करें लेकिन सावधानी से आप को फायदा होगा। क्योंकि किसी भी चीज की अति बहुत बुरी होती है। किसी भी चीज का इस्तेमाल करते हैं तो आपको वह सीमित मात्रा में सीमित दायरे में करें। Green Tea Benefits

  1. पोषक ततवो का भंडार है कीवी जाने इसके फायदे
  2. टी ट्री ऑयल के द्वारा चेहरे की खूबसूरती बढ़ाना और रंग को निखारना।
  3. विटामिन ई यानी फायदे ही फायदे
  4. दादी मां के घरेलू नुस्खे
Sending
User Review
0 (0 votes)
loading...

Leave a Comment