Uncategorized

सिरदर्द Headache का इलाज या घरेलु उपचार

loading...

सिरदर्द के कारण, लक्षण और घरेलु उपचार

अन्य प्रकार के सिरदर्द, जैसे तनाव सिरदर्द और साइनस सिरदर्द, बहुत दर्दनाक होते हैं। सिर दर्द, ललाट, कनपटियों, सिर के पीछे के भाग, ऊपर के हिस्से, सारे सिर में कहीं भी हो सकता है। इसमें तेज़ सिरदर्द, मतली, उल्टी, और हल्की संवेदनशीलता शामिल होती ,है और इन्हें एंटीनौजिया ड्रग्स और अपरिवर्तनीय या निवारक दवाओं के साथ इलाज किया जाता है।

sirdard-headache-ko-door-karne-ke-upay

image source google

सिर दर्द के कारण

  • सिर दर्द, मस्तिष्क में ब्लड क्लॉटिंग भी एक मुख्य कारण है, जिसमे दवा खाना बेहद ही खतरनाक साबित हो सकता है।
  • आँख में परेशानी होने के कारण भी सिर दर्द की समस्या हो सकती है जैसे नजर कमजोर होना, साफ़ दिखाई न देना आदि।
  • अत्यधिक क्रोध होने पर मस्तिष्क के मांसपेशियों में शिथिलता आ जाती है जिससे सिर दर्द शुरू हो जाता है।
  • किसी बात को लेकर चिंता करने पर शरीर की मांसपेशियों में शिथिलता आ जाती है और मस्तिष्क में पर्याप्त मात्रा में रक्त नहीं पहुँचता इससे सिर दर्द प्रारम्भ हो जाता है।
  • मासिक धर्म के पहले, दौरान, या उसके बाद हार्मोनल उतार चढ़ाव होने के कारण।
  • पीठ और गर्दन में स्नायु तनाव होने के कारण सिर दर्द होता है।
  • थकावट से शरीर के भागो में रक्त संचरण ठीक ढंग न हो पाना भी एक कारण है।
  • भूख लगने के बाद भोजन न करना और निर्जलीकरण (प्यास लगने पर समय पर पानी न पीना) भी सिर दर्द का प्रमुख कारण है।
  • दवाएं (दर्द से राहत देने के लिए बनाई जाने वाली कई दवाएं वास्तव में सिरदर्द का कारण बन सकती हैं जब लंबे समय तक उपयोग के बाद दवा रोक दी जाती है।)
  • शराब, कैफीन, और शक्कर की वजह से भी सिर दर्द हो सकता है।
  • कुछ सिरदर्द के कोई स्पष्ट कारण नहीं दिखता है।

 

सिर दर्द के लक्षण

सिर दर्द कभी भी, कही भी, किसी भी जाति, सामाजिक आर्थिक स्थिति, किसी भी समय हो सकता है ये सभी उम्र के लोगो को होता है।जैसे: बच्चे, व्यस्क, स्त्री और बूढ़े व्यक्ति। सिर दर्द में:-

  • सिर का भारीपन महसूस करना।
  • चक्कर आना।
  • अस्थिरता या कमजोरी होना।
  • दृष्टि में परिवर्तन होना।
  • संतुलन बनाये रखने में कठिनाई महसूस करना।
  • आँख, चेहरा या कान का दर्द होना।
  • बुखार होना।
  • प्रकाश या ध्वनि की संवेदनशीलता।
  • उल्टी के साथ या इसके बिना मतली होना।

ये सभी लक्षण ये निर्धारित करते है आपको सिर दर्द में दवा लेने की आवश्यकता है की नहीं। अगर नहीं तो आप लक्षण के आधार पर सिर दर्द के कारण का पता लगा सकते है।
सबसे सामान्य प्रकार के सिरदर्द को तनाव-प्रकार के रूप में जाना जाता है ज्यादातर लोग जिसको हल्के सिरदर्द होते हैं, वे अक्सर तनाव के सिरदर्द या तनाव और माइग्रेन का मिश्रण होते हैं।

सिर दर्द के उपचार

अधिकांश तनाव के सिरदर्दों को आसानी से ओवर-द-काउंटर दवाइयों से इलाज किया जाता है। जैसे:-

  • इबुप्रोफेन,
  • एसिटामिनोफेन,
  • डिक्लोफेनाक आदि।

Sirdard door karne ke gharelu upay सिर दर्द दूर करने के घरेलु उपाय

  • सबसे पहले तनाव से छुटकारा पाए तनाव से छुटकारा पाने के के लिए प्रतिदिन योगा करे जैसे वज्रासन, प्राणायाम।
  • ज्यादा श्रम करने के बाद थोड़ी देर कुछ ऐसा करे जिससे आपका मन प्रफुल्लित हो उठे जैसे किसी से मनोरंजन वाली बाते करना या गाने सुनना आदि।
  • अपने बीते पलो को याद कीजिये जो आपके लिए ख़ुशी देता हो।
  • गर्दन पर तेल से मालिश करना।
  • हीट थेरेपी करना। (गर्म संकुचन या शावर)
  • सुबह उठते साथ होने वाले सर दर्द के लिए नमक लगाकर एक खीरा खाएं और थोड़ी देर बाद गुनगुना पानी पि लें।
  • सिर दर्द होने अदरक की चाय पीनी चाहिए अदरक में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते है, और चायपत्ती में कैफीन रहता है जो सिर दर्द को को दूर करता है और आराम महसूस कराता है।
  • एक गिलास गुनगुने पानी में आधे निम्बू का रस निकाल पियें इसकी एसिड एल्कलईन गैस और एसिडिटी के कारण होने वाले सरदर्द से आराम दिलाती है|
  • ज्यादा सिर दर्द होने पर एक गिलास पानी पिए और थोड़ी थोड़ी देर में पानी पीते रहे।
  • दालचीनी को पीस कर पाउडर बना ले और पानी के साथ मिलाकर माथे पर लेप लगाने से सिर दर्द में आराम मिलता है।

नोट:- लम्बे समय तक सिर दर्द होने पर चिकित्सक का सलाह लेना अतिआवश्यक है।

और भी पढ़े……

कान के दर्द
चेहरे से कील मुहांसे हटाने के घरेलु उपचार

Sending
User Review
0 (0 votes)
loading...

Add Comment

Leave a Comment