Uncategorized

हाइड्रोसील – Hydrocele

loading...

हाइड्रोसील – Hydrocele

ये सिर्फ पुरुषों में होने वाला रोग है हाइड्रोसील में पुरुषों के एक या दोनों अंडकोष में पानी भर जाता है फुला हुआ अंडकोष गुब्बारे की तरह लगता है। इसे प्रोसेसस वजायनेलिस या पेटेंट प्रोसेसस वजायनेलिस कहा जाता है। वैसे ये किसी भी उम्र वाले व्यक्ति को हो सकती है लेकिन ज्यादातर 40 वर्ष के बाद के व्यक्तियों पर ज्यादा प्रभाव डालती है। हाइड्रोसील वंशानुगत भी होते है। नवजात शिशुओं में हाइड्रोसील होना आम है। लगभग 10% बच्चे के विकास के साथ अंडकोष में पानी भरा रहता है। गर्भ में बच्चे के विकास के दौरान, अंडकोष, पेट से ट्यूब के माध्यम से अंडकोश की थैली में उतरते हैं। हाइड्रोसील तब होता है जब यह ट्यूब बंद न हो। तरल खुले ट्यूब के माध्यम से पेट से नालियों में आता है और वृषणकोष में फंस जाता है। इस कारण अंडकोष फूल जाता है। बच्चों में यह जन्म के कुछ समय बाद ठीक हो जाता है। अंडकोष में पानी भरने से सूजन आ जाती है और काफी दर्द भी होता है। कभी-कभी इसमें सूजन रहता है लेकिन दर्द न के बराबर रहता है।

hydrocele-kyo-hota-hai

image source google

हाइड्रोसील होने के कारण

  • आनुवंशिकता
  • चोट लगने के कारण
  • गलत खान-पान के कारण
  • अधिक यौन क्रिया करने से
  • बिना लंगोट बांधे अधिक वजन उठाने से
  • दूषित मल इकठ्ठा हो जाने से आदि

हाइड्रोसील के लक्षण

  • अंडकोष में तेज दर्द होना
  • अंडकोष का गुब्बारे की तरह फूल जाना या सूजन आना
  • ज्ञानिन्द्रियों के नसों में ढीलापन आ जाना
  • चलने में परेशानी होना
  • यौन क्रिया करने में परेशानी होना

हाइड्रोसील से छुटकारा पाने के घरेलु उपचार या इलाज

  • तम्बाकू के पत्तो को गर्म करके उसपर तिल का तेल लगाकर अंडकोष पर रखने से सूजन और दर्द में राहत मिलती है।
  • हाइड्रोसील से पीड़ित व्यक्ति को नमक मिले पानी से स्नान करना चाहिए इससे अंडकोष वृद्धि में राहत मिलती है।
  • पानी को गर्म करके सेकने से दर्द में लाभदायक रहता है।
  • आम के पेड़ की गांठ को पीसकर गाय के मूत्र में मिलाकर लेप करने से हाइड्रोसील से छुटकारा मिलता है।
  • बैगन की जड़ को पानी के साथ पीसकर लेप लगाने से हाइड्रोसील ठीक हो जाता है।
  • 2 रत्ती फुला हुआ सुहागा गुड़ के साथ सुबह खाली पेट 3-4 दिन लगातार लेने से हाइड्रोसील में आराम मिलता है।
  • हल्दी को पानी के साथ पीसकर अंडकोष पर लेप लगाने से सूजन ख़त्म हो जाती है।
  • थोड़े से सरसो या जैतून के तेल में 5 ग्राम काली मिर्च और 10 ग्राम जीरा अच्छी तरह पीस कर गर्म कर ले। थोड़ा सा पानी गर्म कर के मिश्रण में मिलाकर घोल बना लीजिये अब इसे प्रतिदिन सुबह शाम कम से कम 4-5 दिन तक लगातार लगाते रहने से हाइड्रोसील ठीक हो जाता है।
  • 10 ग्राम काटेरी की जड़ को सुखाकर पीस ले इसके चूर्ण में 5 ग्राम काली मिर्च पीसकर मिला ले प्रतिदिन इसे पानी के साथ ग्रहण करने से हाइड्रोसील का पानी सूख जाता है और इसमें दोबारा पानी नहीं भरता है ये आयुर्वेद में हाइड्रोसील का रामबाण इलाज है।
  • 20 ग्राम माजूफल और 5 ग्राम फिटकरी मिलाकर पीस ले और इसका लेप बनाकर लगाने से अंडकोष में भरा पानी सूख जाता है।
  • हाइड्रोसील से पीड़ित व्यक्ति 15-20 दिन लगातार सुबह शाम संतरे या अनार का जूस के सेवन करे और भोजन के साथ कच्चा सलाद निम्बू डाल कर खाने से अंडकोष का पानी सूखने लगता है और पानी भराव कम हो जाता है।

और भी पढ़े

सिरदर्द के घरेलु उपचार
कान के दर्द

Sending
User Review
0 (0 votes)
loading...

Add Comment

Leave a Comment