Uncategorized

कैल्शियम की कमी को दूर करने के घरेलु उपाय

loading...

कैल्शियम शरीर में सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण खनिज लवण है। कैल्शियम हमें भोज्य पदार्थ, जैसे:- दूध, पनीर, अंडे, मछली, सोयाबीन, बादाम, मूली, गोभी के पत्ते तथा गाजर आदि से प्राप्त होता है। बढ़ती उम्र वाले बच्चो, गर्भवती महिलाओ तथा स्तनपान कराने वाली स्त्रियों को कैल्शियम की अधिक मात्रा में आवश्यकता होती है।

calcium-ki-kami-ko-door-karne-ke-upay

image source google

कैल्शियम की कार्य calcium ke kary

  1. ये हड्डियों तथा दांतो का निर्माण करता है तथा उन्हें पुष्ट रखता है।
  2. कैल्शियम रक्त को ज़माने में मदद करता है।
  3. इसका एक महत्वपूर्ण कार्य ह्रदय की क्रिया को सामान्य रखना होता है।
  4. मांसपेशियों को क्रियाशील बनाये रखता है।
  5. मस्तिष्क की क्रियाशीलता को बनाये रखता है।
  6. हमारे दिमाग की क्रियाशीलता को बनाये रखता है।
  7. ग्लाइकोजेन के चयापचय में भाग लेता है।

कैल्शियम के कमी से होने वाला रोग calcium ke kami se hone wala rog

इसके कमी से होने तीन प्रमुख रोग है:-

  1. रिकेट्स (Rickets)
  2. टिटैनी (Tetany)
  3. ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis)

कैल्शियम की कमी के कारण हड्डियाँ पतली और कमजोर होने लगती हैं और ऑस्टियोपोरोसिस होने की सम्भावना बढ़ जाती है। कैल्शियम की कमी के अन्य लक्षण हैं – मांसपेशियों में ऐंठन, याददाश्त कम होना, डिप्रेशन, शरीर सुन्न होना और हाथ पैरों में झुनझुनी महसूस होना

ये भी पढ़े….Akalber ke fayde | अकलबेर के फायदे

एक सामान्य शरीर को प्रतिदिन कैल्शियम की आवश्यकता

  • 0 से 6 महीना – 200 मि.ग्रा./रोज
  • 7 से 12 महीना – 260 मि.ग्रा./रोज
  • 1 से 3 साल – 700 मि.ग्रा./रोज
  • 4 से 8 साल – 1000 मि.ग्रा./रोज
  • 9 से 18 साल – 1300 मि.ग्रा./रोज
  • 19 से 50 साल – 1000 मि.ग्रा./रोज
  • 51 से 70 साल – 1000 मि.ग्रा./रोज
  • 71+ साल – 1200 मि.ग्रा./रोज

कैल्शियम की कमी को दूर करने के घरेलु उपाय calcium ki kami ko door karne ke gharelu upay

1- कैल्शियम युक्त पदार्थों का अधिक सेवन करें

शरीर में कैल्शियम के स्तर को बढ़ाने के लिए सबसे सरल और जरुरी कदम होता है कैल्शियम युक्त पदार्थों का सेवन। कैल्शियम युक्त पदार्थों की लिस्ट निम्नलिखित है –

  • मलाई निकला हुआ कम वसा वाला दूध।
  • दुग्ध उत्पाद जैसे दही और मक्खन।
  • गहरे हरे रंग वाली पत्तेदार हरी साग सब्जियां जैसे पालक, गोभी, शलगम हरा कोलार्ड।
  • अनाज।
  • संतरे का जूस।
  • सार्डिन मछली।
  • शीरा।
  • सोयाबीन और इससे बने अन्य खाद्य पदार्थ।

ये भी पढ़े….Carbohydrate kya hai | कार्बोहाइड्रेट क्या है

2. सुबह की सूरज की रोशनी का आनंद लें

रोज सुबह 10 से 15 मिनट धूप लेने से शरीर को जरुरी विटामिन डी मिलता है। इस दौरान यह ध्यान रखें कि आपके शरीर के ज्यादा से ज्यादा अंगों पर डायरेक्ट सनलाइट पड़ना चाहिए। विटामिन डी शरीर को भोजन में से ज्यादा से ज्यादा कैल्शियम सोखने में मदद करता है।

ध्यान रखें – दोपहर के समय (10 AM से 4 PM के बीच) डायरेक्ट सनलाइट में न आयें और घर से बाहर निकलने से पहले कोई सनस्क्रीन क्रीम का इस्तेमाल करें।

3. विटामिन डी युक्त पदार्थों का सेवन करें

सूरज के जरिये विटामिन डी लेने के साथ-साथ विटामिन डी युक्त पदार्थों का भी सेवन करें। कुछ विटामिन डी युक्त पदार्थ निम्न हैं – वसायुक्त मछली, दूध, अनाज, पनीर, अंडा, मक्खन आदि। आप विटामिन अपने डॉक्टर की सलाह लेकर विटामिन डी के सप्लीमेंट (टेबलेट आदि) भी ले सकते हैं।

4. मैग्नीशियम युक्त पदार्थों का सेवन करें

मैग्नीशियम भी कैल्शियम के अवशोषण के लिए आवश्यक पोषक तत्व है। इसलिए मैग्नीशियम की कमी के कारण भी शरीर में कैल्शियम की कमी हो सकती है। चूँकि हमारा शरीर मैग्नीशियम को स्टोर नहीं करता है इसलिए मैग्नीशियम युक्त पदार्थों का नियमित सेवन जरुरी होता है।

ये भी पढ़े….हैजा: कॉलरा

मैग्नीशियम के सबसे अच्छे स्त्रोत निम्न हैं – पालक, शलगम, सरसों का साग, ब्रोकोली, एवोकैडो, खीरा (ककड़ी), हरी सेम, साबुत अनाज, कददू के बीज, तिल के बीज, बादाम और काजू।

5. कैल्शियम के सप्लीमेंट लें

शरीर की रोज की कैल्शियम की जरूरत को पूरा करने के लिए आप कैल्शियम की खुराक भी ले सकते हैं। बाजार में यह टेबलेट, कैप्सूल, सिरप और पाउडर के रूप में आसानी से उपलब्ध होती है।

Note:– कैल्शियम की खुराक के हाई डेली डोस न लें इससे हार्ट डैमेज हो सकता है और शरीर पर अन्य दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

इसके बारे में जरूर पढ़े……

Sending
User Review
0 (0 votes)
loading...

Leave a Comment