Uncategorized

Doodh peene ke fayde दूध के पीने के फायदे

loading...

Doodh (Milk)

इसे अन्य भाषाओं में दुग्ध, क्षीर, पय, स्तन्य, पियूष, बालजीवन, अमृत, हालू, पालू, शीरे, लवनुख, Doodh आदि नाम है। ये एक स्वक्ष शीतल पेय द्रव्य है जो पीने में मधुर, वात-पित्तनाशक, मृदुविरेचक, तत्काल वीर्यजनक, बलकारक, बुद्धिवर्धक, वाजीकरण, सभी प्राणियों की आत्मा है। यह जीर्णज्वर, मानसिक रोग, क्षय, मूर्छा, भ्रम, दाह, तृषा, हृदयरोग, शूल उदावर्त गुल्म, गुदांकुर, रक्तपित्त, अतिसार, योनिरोग, श्रम और गर्भस्त्राव में हमेशा लाभदायक होता है।

dudh-pine-ke-fayde

image source google

विभिन्न प्रकार के दूध के गुण Vibhinn parkar ke doodh ke gunn

गाय के दूध

गाय के दूध  मधुर, शीतल, स्तनों में दूध उत्पन्न करने वाला, वात पित्त नाशक, भारी, शरीर में पोषक तत्वों के कमी को पूरा करने वाला, बिमारियों में लाभदायक, बलकारक, मनुष्यों को बुढ़ापे से बचाने वाला होता है। भगवान् शिव को गाय का दूध चढाने से शिवजी प्रसन्न होते है। इसके doodh का घी आँखों में लगाया जाता है जो आँखों के गंभीर बिमारियों को नष्ट करता है।

भैंस का दूध

भैंस का दूध काफी बलकारक, निद्राकारक, शुक्रजनक, कफ को दूर करने वाला, भारी, वर्ण को सुन्दर करने वाला होता है।

भेड़ का दूध

इसका दूध मधुर, रूखा, गरम और सिर्फ वात रोंगो के लिए हितकारी होता है। ये रक्तपित्त और हृदयरोग में हानिकारक होता है।

स्त्री का दूध

स्त्री का दूध बच्चो के लिए अमृत होता है। ये मधुर, शीतल, हल्का, नेत्रों में हितकारी, कसेला, पथ्य, दीपन, पाचक, धातुवर्धक, रुचिकारक तथा जीवन और स्नेहयुक्त होता है। रक्त पित्त में इसको नाक में टपकाने से और आँख की फूली पर इसको आँख में आंजने से बहुत फायदा होता है।
ये बच्चो के अंगो का विकास, शरीर को हृष्ट-पुष्ट, बलकारक, विभिन्न बिमारियों से बचाने वाला होता है।

बकरी का दूध

बकरी का दूध कसेला, मधुर, शीतल, मलरोधक, हल्का, पित्त, क्षय, खांसी, ज्वर और रक्तातिसार में हितकारी और दोषनाशक होता है। ये मच्छरों से होने वाले डेंगू बुखार में बहुत ही उपयोगी है।

दूध के पीने के फायदे Doodh peene ke fayde

नकसीर

दूध में शक्कर मिलाकर या घी मिलाकर नाक में टपकाने से नकसीर बंद हो जाती है।

हिचकी

स्त्री के दूध में मक्खी के विष्ठा मिलाकर नस्य देने से हिचकी में लाभ मिलता है या स्त्री के दूध में चन्दन मिलाकर नस्य देने से हिचकी बंद हो जाती है।

नेत्ररोग

स्त्री के दूध को दो-दो बूँद आँख में सुबह शाम डालने से नेत्ररोग में फायदा मिलता है।

प्रदररोग

बकरी का दूध लेकर उसमे मोचरस मिलाकर पिलाने से प्रदर रोग में काफी लाभ होता है।

रक्तप्रदर

दूध में शक्कर मिलाकर भोजन के साथ लेने से रक्तप्रदर से छुटकारा मिलता है।

हड्डी में दर्द

हड्डी में होने वाला दर्द कैल्शियम के कमी से होता है। 250 मिली दूध सुबह शाम लेने से से कैल्शियम की कमी दूर होता है।

कमजोरी को दूर करना

शरीर की कमजोरी को दूर करने के लिए दूध में बादाम को उबाल ले, बादाम खाकर ऊपर से दूध पीने से लाभ मिलता है।

चोट लगने पर या जोड़ो के दर्द

एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी डालकर गर्म करके पीने पर जोड़ो के दर्द में बहुत आराम मिलता है। इससे दमा, खांसी, खून को साफ़ रखने और अनिद्रा में काफी लाभदायक रहता है।

चेतावनी:-खटाई, नमकीन चीज, इमली, निम्बू, तिल का तेल, कुल्थी, मछली, राइ, प्याज, दही, छाछ, गन्ने के जड़, मुंग की जड़ और तरबूज के साथ दूध का सेवन नहीं करना चाहिए क्योकि ये इसके विरोधी द्रव्य है। अतिसार, कफ-पित्त की अधिकता, फोड़े, फुंसी, कोढ़, भगन्दर, सुजाक, शर्करा प्रमेह और कृमि रोग में दूध बड़ा हानिकारक होता है।

और भी पढ़े

सफ़ेद धतूरा के फायदे Safed Dhatura ke fayde
काला धतूरा के फायदे | Kala Dhtura ke fayde

Sending
User Review
0 (0 votes)
loading...

Add Comment

Leave a Comment