Uncategorized

गिरते-झड़ते बालो के हर्बल और आयुर्वेदिक इलाज

loading...

बड़े बुजुर्ग बालों में तेल लगाने के बहुत फायदे बताते थे। लेकिन आज की पीढ़ी इस ओर ध्‍यान नहीं देती। तेल हमारे बालों की सेहत के लिए बहुत जरूरी होता है। आइए जानें कैसे आप अपने बालों को तेल के जरिये सेहतमंद बना सकते हैं।

जिस तरह व्यक्ति का संपूर्ण विकास जरूरी है, उसी तरह व्यक्ति के बालों का विकास भी जरूरी है। बालों का लंबा और मजबूत होना, बालों का चमकदार होना, बालों का ना झड़ना, बालों में डेंड्रफ ना होना, बालों की ऑयलिंग ये तमाम चीजें बालों के विकास के तहत आती हैं।

बालों के विकास के लिए आपको बालों की सही देखभाल करनी जरूरी है। दिलचस्प बात है कि आज बालों के विकास की जरूरत महिलाओं और पुरूष दोनों को ही पड़ रही है। अगर गंभीरता से देखें, तो बालों का विकास भी स्वास्थ्य से जुड़ा एक जरूरी मुद्दा है। आइए जानें बालों के विकास के लिए तेल का कैसे और क्यों इस्तेमाल करें।

bal-jhadne-ke-gharelu-ilaj

image source google

आखिर क्‍यों झड़ते हैं बाल

बालों के विकास के लिए सबसे पहले यह जानना जरूरी है, कि वे कौन सी चीजें हैं जो बालों के  विकास को रोकती है। वास्तव में बालों के विकास में हारमोनल असंतुलन, तनाव, कुछ दवाओं के साइडइफेक्ट, प्रदूषण और शरीर में पोषक तत्वों की कमी सबसे बड़ी बाधा है।

अरंडी का तेल और बायोटिन थेरेपी (Castor Oil and Biotin Therapy)

बालों के झड़ने की बड़ी वजह तनाव, अवसाद (Dejection) और विटामिन बी-7 (बायोटिन) की कमी होती है। इस समस्या को खत्म करने के लिए बालों की जड़ (Scalp) में अरंडी का तेल लगाएं और बायोटिन की गोलियां खाना जरुरी है। यह सबसे आसान थेरेपी है।

पहली बार इसे आजमाने वाले अरंडी के तेल में नारियल तेल, जैतून का तेल या फिर कोई ऐसा तेल मिला लें जो आसानी से अरंडी के तेल में मिल जाए। अरंडी का तेल थोड़ी मोटा और गाढ़ा होता है और इसे पतला बनाने के लिए अन्य तेलों को मिलाना जरुरी होता है। जब तेल तैयार हो जाए तो इससे बालों की जड़ों की मालिश करें।

अरंडी के तेल की मालिश के साथ-साथ विटामिन बी7 या बायोटिन (Vitamin B7 or Biotin) की गोलियां भी नियमित रुप से खाते रहेंगे तो 3 से 6 महीने के अंदर बेहतर नतीजे आएंगे। बालों का बढ़ना शुरु हो जाएगा। ध्यान रहे विटामिन बी7 की गोलियां 5 एमजी से ज्यादा एक दिन में नहीं खाएं। ओवरडोज से साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं।

विटामिन ई थेरेपी (Vitamin E Therapy)

विटामिन बी7 के अलावां विटामिन ई भी बालों की वृद्धि में काफी पोषण देती है। पुरुष और स्त्री दोनों के बालों के पोषण के लिए विटामिन ई थेरेपी जरुरी है। यह बालों के झड़ने की बीमारी को भी रोकता है। विटामिन ई की गोलियां खाने या विटामिन ई युक्त तेल बालों की जड़ में लगाने से बालों की जड़ में रक्त संचार की गति तेज होती है और बाल फिर से ग्रोथ होने लगते हैं।

मछली का तेल बहुत फायदेमंद

बालों के विकास में जो तेल सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है, वह है मछली का तेल। मछली के तेल से बालों की जड़े मजबूत होती है, जिससे बालों का झड़ना रुकता है। आपको अपने खान-पान में भी मछली के तेल का सेवन करना चाहिए। मछली के तेल के सेवन से आप पोषक तत्व भी लेते हैं।

बाल धोने से पहले लगाएं तेल

बालों में मसाज के अलावा यदि आप बाल धोना चाहते हैं तो बाल धोने से पहले बालों में तेल जरूर लगाएं। बालों में तेल लगाने और मसाज करने के लिए आप नारियल का तेल,जैतून का तेल, सरसों का तेल या फिर हबर्ल तेल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। अन्यथा आप बादाम के या आंवला के तेल में कोई अन्य तेल मिक्स करके भी बालों की देखभाल कर सकते हैं।

 

हेयर रिग्रोथ के कुछ घरेलू और कुदरती उपाय (Herbal and Home Remedies for Hair Regrowth)

एलोवेरा मास्क और नारियल तेल (Aloe Vera Mask and Coconut Oil)

एलोवेरा के जूस और नारियल तेल का मिश्रण हेयर रिग्रोथ में काफी असरदार होता है। दोनों को कुछ इस तरह मिलाएं कि यह पेस्ट की तरह बन जाए। फिर इस पेस्ट को हेयर मास्क की तरह लगाएं। मास्क लगाने के बाद बालों की जड़ की मसाज भी करें। काफी फायदा दिखेगा।

प्याज और लहसुन (Onion and Garlic)

प्याज और लहसुन में सल्फर की मात्रा पाई जाती है जो हेयर रिग्रोथ में काफी मदद करती है। इसके लिए कुछ ख़ास नहीं करना है, बस प्याज को काटकर जूस निकाल लेना है और इस जूस से बालों के जड़ की मालिश 15 मिनट तक करनी है।

दूसरी तरफ आपको कुछ लहसुन के दाने के जूस निकाल कर उसे नारियल तेल में मिला देना है। फिर उसे कुछ देर तक उबालना है। जब यह ठंढा हो जाए तो इससे बालों के जड़ की मालिश करनी है।

भृंगराज (Bhringaraj)

भृंगराज के तेल से बालों की मालिश करें। इससे बहुत जल्दी बाल आने लगेंगे।

जटामांसी (Jatamansi or Spikenard)

इस जड़ी-बूटी का इस्तेमाल आयुर्वेद में हेयर ग्रोथ के दवा के रुप में किया जाता है। इसे आप कैप्सूल की तरह खा भी सकते हैं और इसे सीधे बालों की जड़ में लगा भी सकते हैं।

आयुर्वेदिक हेयर वाश (Ayurvedic Hair Wash)

आधा किलो शिकाकाई, मेथी एक पाव, करी पत्ता, तुलसी पत्ता और रीठा 100 ग्राम लें। इस सभी को मिला कर बालों को धोने लायक शैंपू बनाएं। इससे बालों की कई परेशानी दूर होने के साथ बालों में वृद्धि भी होगी।

और भी पढ़े…..

 

Sending
User Review
0 (0 votes)
loading...

Leave a Comment