Uncategorized

Jeera ke gunn aur fayde | जीरा के गुण और फायदे

loading...

Jeera जीरा को अंग्रेजी में क्यूमिन cumin कहते है। ये खाने को स्वादिष्ट बनाने के अलावा हमारे स्वास्थ को भी सही रखता है। Jeera विशेष औषधीय गुणों से भरपूर है। कैंसर, दर्द नाशक, अनिद्रा को दूर करना, रक्तचाप, ह्रदय रोग आदि में जीरा बहुत ही लाभकारी है। इसके सेवन से शरीर में मौजूद वसा कम होती है जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है। जीरा कोलेस्ट्राल को कम कर होने वाले हार्ट अटैक से बचाता है। खून की कमी दूर करके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है।

jeera-ke-fayde

image source google

Jeera ke fayde जीरा के फायदे

Khoon ki kami खून की कमी

Jeera में पाया जाने वाला लौह तत्व हीमोग्लोबिन को बढ़ाता है। जिससे हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। Jeera पाचन शक्ति और पैंक्रियाज़ के स्त्राव बढ़ाता है।
-एक चम्मच जीरा का पाउडर में 5 मिली ग्राम लौह होता है। इसमें मौजूद लौह लाल रक्त कणिकाओं के उत्पादन को बढ़ाता है। जिससे एनेमिया anemia या खून की कमी की शिकायत दूर होती है। जीरे को अपने भोजन में शामिल करने से ऐसी बीमारिया नजदीक नहीं आती है।

Cancer कैंसर

इसमें एंटीकार्सिनोजेनिक तत्व मौजूद होते है। शोधकर्ताओं ने सिद्ध किया है कि जीरा पेट की तिल्ली और इसके ट्यूमर को बढ़ने से रोकने में मदद करता है। ये कैंसर के रोकथाम के अतिआवश्यक है।

Dardnashak दर्दनाशक

ये बवासीर के दर्द, अंडकोष दर्द, स्तन दर्द आदि में बहुत उपयोगी है। जिससे दर्द को नष्ट कर आराम देता है।
-जीरे को पानी में मिलाकर चटनी बना ले। जहा भी दर्द हो इसका लेप करने से दर्द ख़त्म हो जाता है।
-इसको मिश्री में मिलाकर पीस ले। दो-दो चम्मच दिन में तीन बार पानी से फंकी ले।
-जीरा को पीसकर इसे कपडे से छान ले। इसमें घी मिलाकर, गर्म करके पेस्ट बना ले। इसको लगाने से कैसा भी दर्द हो दूर हो जायेगा।

Raktchap रक्तचाप (Blood Pressure)

आजकल चिंता, तनाव, मोटापा, सही से खान-पान न हो पाने के कारण व्यक्ति उच्च रक्त चाप का शिकार हो जाता है। जिससे वो अनेक बीमारिया से पीड़ित हो जाता है।
-काली मिर्च 25 ग्राम, जीरा 100 ग्राम और मिश्री 150 ग्राम ले। Jeera को थोड़ा भून ले, फिर इसको काली मिर्च के साथ पीसे। फिर इसमें मिश्री मिला दे। इस पाउडर को एक कांच के शीशी में रख दे। एक-एक चम्मच सुबह शाम फंकी ले। इससे निम्न और उच्च रक्त चाप में फायदा मिलता है। और अम्लपित्त को ठीक करके पाचनशक्ति को बढ़ाती है।

Anidra अनिद्रा

चिंता, मानसिक तनाव या किसी बीमारी के कारण नींद नहीं आती है। जिससे व्यक्ति अनिद्रा का शिकार हो जाता है।
-एक चम्मच भूना, पिसा हुआ Jeera गर्म दूध के साथ फंकी लेने से नींद बहुत अच्छी आती है। इसको केले के साथ भी ले सकते है।

Khansi खांसी

मौसम के बदलाव के कारण शरीर पर पहले असर पड़ता है। जिससे खांसी जैसी समस्या उत्पन्न हो जाती है। खांसी धूल मिटटी के सम्पर्क में आने से, ज्यादा स्मोकिंग करने से, फेफड़ो में संकर्मण के कारण होता है।
-सौंफ एक चम्मच, Jeera एक चम्मच पीस ले। इसे दिन में तीन बार आधे चम्मच शहद में मिलाकर खाने से खांसी ठीक हो जाती है।

Pachan sambandhi rog पाचन सम्बन्धी रोग

पाचनशक्ति के कमजोर होने पर भोजन सही से नहीं पचता है। जिससे कई बार थोड़ा-थोड़ा करके दस्त जाना पड़ता है। और पेट ऐठन के साथ दर्द भी उठता है।
-इसमें Jeera, काली मिर्च और स्वादनुसार सेंधा नमक मिलाकर पीस ले। इसे एक गिलास छाछ में मिलाकर प्रतिदिन सुबह शाम पीने से पाचन सम्बन्धी रोग ठीक होते है।

Dast दस्त

पाचन शक्ति सही न होने से, गैस, अपच से, उल्टा-सीधा खाने से दस्त लग जाते हैं। जिससे व्यक्ति को धीरे-धीरे कमजोरी होने लगती है। क्योकि शरीर का पानी धीरे दस्त होने के कारण कम होने लगता है जिसे डिहाइड्रेशन Dehydration कहते है।
-गैस और अपच के कारण दस्त होने से एक चम्मच जीरे को भूनकर पीस ले। इसमें काला नमक छाछ या दही मिलाकर पिए। दस्त बंद हो जायेंगे।
-आधे चम्मच जीरे को सेककर पीस ले। इसमें शहद मिलाकर दिन में चार बार चाटने से पतले दस्त बंद हो जायेंगे।
-एक कप पानी में आवश्यकतानुसार नमक मिला ले। इसमें एक चम्मच भूना, पिसा हुआ जीरा और एक निम्बू निचोड़ ले। दिन में तीन बार पीने से दस्तो के साथ हो रहे उल्टियां भी बंद हो जाती है।

Ulti hona उल्टी होना

गर्भावस्था में जी मिचलाना और उल्टी होना आम बात है। गर्भवती स्त्रियों को पित्त से उल्टी होती है।
-इसमें चार नीम्बुओं का रस निकालकर छानकर आवश्यकतनुसार सेंधा नमक मिलाये। इसे चम्मच से हिलाये। फिर इसमें 125 ग्राम जीरा साफ़ करके इसमें डाल दे और भीगने के लिए छोड़ दे। जब जीरा भीगते-भीगते निम्बू का रस सूखकर सिर्फ जीरा ही रह जाये। तो इसे एक साफ़ शीशी में रख ले। इसे आधा-आधा चम्मच दिन तीन बार चबाये। इससे गर्भवस्था में जी मिचलाना, उल्टी आना बंद हो जाती है।
-सामान्य उलटी होने पर एक चम्मच जीरा में एक चम्मच चीनी मिलाकर खाये। उल्टी होना बंद हो जाएगी।

Ulti ke sath khoon aana उल्टी के साथ खून आना

कभी-कभी उल्टी के साथ खून आ जाता है। जिससे व्यक्ति डर जाता है। इससे छुटकारा पाने के लिए।
-छह ग्राम मिश्री के साथ तीन ग्राम Jeera पीस ले। इसे पानी के साथ फंकी लेने से उल्टी के साथ खून आना बंद हो जाता है।

Masoodho me sujan hona मसूढ़ों में सूजन होना

इसमें सूजन होने से खाने-पीने में समस्या उत्पन्न हो जाती है। जिससे दर्द ज्यादा होने लगता है।
-भूना हुआ जीरा एक चम्मच और एक चम्मच सेंधा नमक पीस ले। इसे सूजे हुए मसूढ़े पर रगड़े और लार टपकने दे। इससे सूजन और दर्द में बहुत आराम मिलता है।

Munh me chhala hona मुंह में छाला होना

पेट साफ़ न होने से या कुछ गलत चीजों के सेवन करने से मुंह में छाले निकल आते है। जिससे खाने-पीने ने परेशानी होने लगती है।
-एक चम्मच मिश्री के साथ एक चम्मच जीरा मिलाकर दिन में तीन बार लगातार चार दिन तक दो-दो चम्मच खाने से छाले नष्ट हो जाते है।

Twacha ka rog त्वचा का रोग

चेहरे पर रूखापन, फुंसी निकलना, झुर्रिया पड़ना आम समस्याएं बन गई है। इसे दूर करने की लिए-
-फेसपैक बनाते समय इसमें कुछ मात्रा जीरा पाउडर मिलाये। ये जलने-छिलने के निशान और झुर्रियों को दूर करेगा।
मुहांसे और फुंसी होने पर जीरे को पीस ले और सिरके में मिलाकर चरम रोग पर लगाए आराम मिलेगा।

Garmiyo me funsiya niklna गर्मियों में फुंसिया निकलना

गर्मी के मौसम में शरीर पर फोड़े-फुंसिया निकल जाती है। जिससे सूजन और तेज दर्द होते रहता है। इससे छुटकारा पाने के लिए-
-एक चम्मच कच्चा Jeera पीसकर प्रतिदिन सुबह के समय एक कप पानी में घोलकर पीने से गर्मी में होने वाली फुंसी से छुटकारा मिलता है।

Daat ke rog दांत के रोग

इस रोग में दांत के दर्द, कीड़े लगना, सूजन होना आदि है। जिसमे व्यक्ति को कुछ भी खाने-पीने से दांतो में दर्द उठता है जो असहनीय होता है।
-12 ग्राम सेंधा नमक और 8 ग्राम Jeera बारीक पीसकर रख ले। इससे प्रतिदिन मंजन करने से दांतो के रोंगो में फायदा मिलता है।

Kutte ka katna कुत्ते के काटना

जानवरो का काटना बहुत ही हानिकारक रहता है। कुत्ते के काटने से शरीर में विष फैलने का खतरा रहता है।
-इसमें बीस कालीमिर्च और दो चम्मच जीरा को पानी में पीसकर कुत्ते के काटे हुए स्थान पर लगाए। इससे कुत्ते का विष शरीर में नहीं फैलता है।

Peshab me jalan, soojan, pathri पेशाब में जलन, सूजन या पथरी

-इसमें दो चम्मच चीनी या मिश्री और दो चम्मच जीरा पीसकर दो-दो चम्मच दिन में तीन बार ठन्डे पानी के साथ फंकी लेने पर पेशाब में जलन, सूजन या पथरी की समस्यायों से छुटकारा मिलता है।

और भी पढ़े

Haldi ke fayde aur nuksan हल्दी के फायदे और नुकसान
Pyaj ke fayde | प्याज के फायदे

Sending
User Review
0 (0 votes)
loading...

Add Comment

Leave a Comment