Liver

खतरनाक बीमारी है लिवर सिरोसिस, Liver cirrhosis causes treatment and diet plan in Hindi

chiro inside
loading...

लीवर सिरोसिस (Liver Cirrhosis) एक गंभीर बीमारी है जो कभी कभी घातक साबित हो जाती है। सिरोसिस में लिवर से संबंधित कई समस्याओं के लक्षण एक साथ देखने को मिलते हैं। इसमें लिवर के टिशूज क्षतिग्रस्त होने लगते हैं। आमतौर पर ज्यादा एल्कोहॉल के सेवन, खानपान में वसा युक्त चीजों, नॉनवेज का अत्यधिक मात्रा में सेवन और दवाओं के साइड इफेक्ट की वजह से भी यह समस्या हो जाती है।

Liver cirrhosis causes treatment and diet plan in Hindi

liver-cirrhosis-kya-hai

image source google

  • इसके अलावा लिवर सिरोसिस का एक और प्रकार होता है, जिसे नैश सिरोसिस यानी नॉन एल्कोहोलिक सिएटो हेपेटाइटिस कहा जाता है, जो एल्कोहॉल का सेवन नहीं करने वालों को भी हो जाता है।
  • एल्कोहोलिक होने की वजह से लिवर की बीमारियां बढ़ी हैं जिससे देश में 25से 64 आयु वर्ग के लोग सबसे ज्यादा मौत के शिकार होते हैं।
  • ऐसा माना जाता है कि जिन लोगों को हेपेटाइटिस बी और सी इन्फेक्शन होता है उन लोगों में लिवर सिरोसिस होने के 85 प्रतिशत ज्यादा संभावना होती है। फैटी लिवर से भी लिवर सिरोसिस होने की संभावना होती है। हालांकि इस बीमारी से निपटने के कुछ प्राकृतिक तरीके हैं जिससे लिवर सिरोसिस ठीक किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें-अंगूर के फायदे और नुकसान

  • सिलीमरिन एक पदार्थ होता है जो मिल्क थीस्ल प्लांट में पाया जाता है जिससे लिवर स्वस्थ होने लगता है। बर्डोक रुट, डंडेलिओन और रेड क्लोवर से लिवर में ठीक से रक्तप्रवाह होता है जिससे लिवर पहले की तरह काम करने लगता है।
  • अल्फला में विटामिन के पाया जाता है जिससे पाचन तंत्र अच्छा रहता है यही नहीं इससे खून बहना बंद हो जाता है जो की विटामिन के की कमी से होता है जो सिरोसिस की बीमारी में बहुत आम बात है। एलोवेरा से भी आपका पाचन तंत्र अच्छा रहता है। सुबह शाम एक कप एलोवेरा जूस पीने से लिवर स्वस्थ होने लगता है।
  • विषाक्त पदार्थों के लिवर में जमा रहने से यह पेट और गुर्दे में पहुचने लगता है। इसलिए हमेशा अपना पेट साफ़ रखें क्यों कि कब्ज़ की वजह से लिवर को दोगुनी मेहनत करनी पड़ती है।
  • अगर सिरोसिस गंभीर है, तो चौदह दिनों तक केवल ताजे फल और सब्जियों का सेवन करें। साथ ही वह आहार लें जिसमें पोटेशियम की मात्रा ज्यादा पायी जाती हो जैसे केला, गुड़, डील्स, केल्प, प्रून या बेर, किशमिश, चावल और वीट ब्रान खाये। इसके साथ आप बादाम, ग्रेन्स और सीड्स, बकरी का कच्चा दूध और उसे बनी चीज़े खा सकते हैं।

यह भी पढ़ें-हल्दी के फायदे और नुकसान

लिवर सिरोसिस के लक्षण

यह भी पढ़ें-शरीर को बनाने में महत्वपूर्ण अश्वगंधा और शतावरी

लिवर सिरोसिस के कारण

  • ज्यादा व लगातार शराब पीना,
  • विशेष रूप से हैपेटाइटिस बी और डी के साथ वायरल हैपेटाइटिस,
  • परजीवी (Parasite) द्वारा संक्रमण जैसे लीवर फ्लूक,
  • चिरकालिक हैपेटाइटिस बी इंफ़ेक्शन,
  • चिरकालिक हैपेटाइटिस सी इंफ़ेक्शन,
  • हैपेटाइटिस बी और लीवर कैंसर दोनों का पारिवारिक इतिहास होना,
  • लीवर का सिरोसिस (Cirrhosis),
  • स्थूलता (Obesity)

यह भी पढ़ें-चाय पीने के फायदे और नुकसान

लिवर सिरोसिस के औषधियां और घरेलु उपचार

  • यकृतफलान्तक चूर्ण : इसका सेवन 1 चम्मच रोज़ करें.
  • भुमयामलकी (Phyllanthus niruri): 2 समय रोज़ इसका सेवन करें.
  • एकिनशिया (Echinacea) कॅप्सुल्स: 2 कॅप्सुल्स दिन में 3 बार.
  • इसके अलावा आरोगयावर्धीनी वॅटी, कुटकी, ककामाची, त्रिफला का प्रयोग लाभदायक है.

चिकित्सक के परामर्शानुसार इन औषधियों का सेवन करना चाहिए.

कुछ लोगों में उच्च रक्तचाप का निवारण करने हेतु बेटा ब्लॉकर (beta-blockers) का प्रयोग किया जाता है. परंतु इस दवाई का प्रादुर्भाव यह है की इससे पोर्टल हाइपरटेन्षन (portal hypertension) की व्याधि उत्पन्न होती है. पोर्टल हाइपरटेन्षन वह अवस्था है जिसमें रक्त का दबाव शरीर से अतिरिक्त जिगर की धमनियों में अधिक होता है जिससे इस अंग पर दुष्प्रभाव पड़ सकता है.

अगर रोग अधिक गंभीर अवस्था में है तो लीवर ट्रांसप्लांट (Liver Transplant) ही एक जरिया बचता है जिससे रोगी की जान बचाई जा सकती है | अत: यकृत से सम्बन्धित समस्याओं में चिकित्सकीय जांच आदि करवानी आवश्यक होती है | ताकि समय से पहले रोग का पता लगाया जा सके |

यह भी पढ़ें- मेथी के फायदे

लीवर सिरोसिस से बचने के टिप्स

  • कई प्रकार की दर्द निवारक दवाएं लीवर को नुकसान पहुँचाती है, इसीलिए किसी भी दवा को लेने से पहले डॉक्टर से सलाह ले|
  • अगर आपको मधुमेह की बीमारी है, तो अपनी ब्लड शुगर को हमेशा कण्ट्रोल में रखे|
  • फाइबर युक्त ताजे फलो और हरी सब्जियों का सेवन अधिक करे|
  • वसायुक्त और अधिक तैलीय चीजों का सेवन बहुत कम करे|
  • योग और व्यायाम को अपनी नियमित जीवन शैली में अपनाये|
Sending
User Review
0 (0 votes)
loading...