Uncategorized

शंखपुष्पी के औषधीय गुण और फायदे

loading...

शंखपुष्पी (Shankhpushpi) का वनस्पति नाम “कोनोवुल्लूस प्लूरिकालिस (Convolvulus Pluricaulis)” है। यह अपने चिकित्सीय गुणों के कारण आयुर्वेद में प्रयोग होने वाली एक बहुत महत्वपूर्ण जड़ी बूटी है। यह औषधि मानसिक शक्ति और स्मृति को बढ़ाने, एकाग्रता में सुधार करने और याद करने की क्षमता में वृद्धि करने में फायदेमंद है। चिकित्सकीय रूप से, शंखपुष्पी अनिद्रा (नींद ना आने), तनाव संबंधी विकारों, मानसिक दुर्बलता या संवेदनशीलता, चक्कर आने आदि में लाभदायक है। अन्य जड़ी-बूटियों के साथ इसे स्ज़ोफ्रेनिया, अवसाद, मिर्गी और आक्रामक व्यवहार वाले विकारों में भी उपयोग किया जाता है।

shankhpushpi-ke-fayde

google

शंखपुष्पी के लाभ और औषधीय उपयोग Shankhpushpi ke labh aur aushdhiy upyog

शंखपुष्पी (Shankhpushpi) को मनोविकार में प्रभावी पाया गया है जब रोगी में निम्न में से कोई लक्षण हों:

  • आक्रामक व्यवहार
  • उदास होना
  • चिड़चिड़ापन
  • बेचैनी
  • मानसिक तनाव
  • व्याकुलता
  • मानसिक थकान महसूस करना
  • गुस्सा
  • अनिश्चितता
  • मनोदशा की अशांति
  • चक्कर आना
  • मतिभ्रम
  • सिर में जलन
  • गर्मी लगना
  • अत्यधिक पसीना आना या तनाव के कारण अत्यधिक पसीना आना
  • चक्कर आना।

शंखपुष्पी के फायदे Shankhpushpi ke fayde

शंखपुष्पी के क्षाराभ (एल्केलाइड) में मानसिक उत्तेज़ना शामक अति महत्वपूर्ण गुण विद्यमान है। इसके प्रयोग से प्रायोगिक जीवों में स्वत: होने वाली मांसपेशीय हलचलें (स्पॉन्टेनियस मोटर एक्टिविटी) घटती चली गयी।

1-उत्तेज़ना शामक
शंखपुष्पी का उत्तेज़ना शामक प्रभाव उच्च रक्तचाप को घटकर उसके सामान्य स्तर पर लाता है। प्रयोगों में ऐसा देखा गया है के भावनात्मक अवस्थाओं जैसे तनाव या अनिद्राजन्य उच्च रक्तचाप जैसी परिस्थितियों में शंखपुष्पी बहुत ही लाभकारी है।

2-तनाव नाशक
शंखपुष्पी आदत डालने वाले तनाव नाशक औषधियों (ट्रैंक्विलाइज़र) की तुलना में अधिक उत्तम और सौम्य है, क्यूंकि इसके रसायन तनाव का शमन करके मस्तिष्क की उत्तेज़ना शांत करते है और दुष्प्रभाव रहित निद्रा लाते है। यह हृदय पर भी अवसादक प्रभाव डालती है तथा हृदय की अनियमित तीव्र धड़कनों को नियमित करती है।

3-हाइपो थाइरोइड में
अवटु ग्रंथि (थाइरोइड ग्लैंड) के अतिस्राव (हाइपो थाइरोइड) से उत्पन्न कम्पन, घबराहट और अनिद्रा जैसी उत्तेजनापूर्ण स्थिति में शंखपुष्पी काफी अनुकूल प्रभाव डालती है। अवटु ग्रंथि से थायरो टोक्सिन के अतिस्राव से हृदय और मस्तिष्क से हृदय और मस्तिष्क दोनों प्रभावित होते हैं। ऐसी स्थिति में यह थाइरोइड ग्रंथि के स्त्राव को संतुलित मात्रा में बनाये रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। शंखपुष्पी का सेवन थायरो टोक्सिकोसिस के नए रोगियों में एलोपैथिक की औषधियों से भी अधिक प्रभावशाली कार्य करती है। यदि किसी रोगी ने आधुनिक पैथी की एंटी थाइरोइड औषधियों का पहले सेवन किया हो और उनके कारण रोगी में दुष्प्रभाव उत्पन्न हो गए हों, तो शंखपुष्पी उनसे रोगी को मुक्ति दिला सकने में समर्थ है।

अनेक वैज्ञानिकों ने अपने प्रारंभिक अध्ययनों में पाया है के शंखपुष्पी के सक्रिय रसायन सीधे ही थाइरोइड ग्रंथि की कोशिकाओं पर प्रभाव डालकर उसके स्त्राव का पुनः नियमन करते है। इसके रसायनों की कारण मस्तिष्क में एसिटाइल कोलीन नामक अति महत्वपूर्ण तंत्रिका संप्रेरक हॉर्मोन का स्त्राव बढ़ जाता है। यह हॉर्मोन मस्तिष्क स्थिति, उत्तेज़ना के लिए उत्तरदायी केन्द्रों को शांत करता है। इसके साथ ही शंखपुष्पी एसिटाइल कोलीन के मस्तिष्क की रक्त अवरोधी झिल्ली (ब्लड ब्रेन वैरियर) से छनकर रक्त में मिलने को रोकती है, जिससे यह तंत्रिका संप्रेरक हॉर्मोन अधिक समय तक मस्तिष्क में सक्रिय बना रहता है।

4-दिमागी ताकत
प्राय: छात्र -छात्राओं के पत्रों में दिमागी ताकत और स्मरणशक्ति बढ़ाने के लिए गुणकारी ओषधि बताने का अनुरोध पढने को मिलता रहता है । छात्र- छात्रओं के अलावा ज्यदा दिमागी काम करने वाले सभी लोगों के लिए शंखपुष्पी का सेवन अत्यन्त गुणकारी सिद्ध हुआ है।
इसका महीन पिसा हुआ चूर्ण , एक-एक चम्मच सुबह- शाम , मीठे दूध के साथ या मिश्री की चाशनी के साथ सेवन करना चाहिए।

5-ज्वर में प्रलाप
तेज बुखार के कारण कुछ रोगी मानसिक नियंत्रण खो देते है और अनाप सनाप बकने लगते है। एसी स्थिति में शंखपुष्पी और मिश्री को बराबर वजन में मिलाकर एक-एक चम्मच दिन में तीन या चार बार पानी के साथ देने से लाभ होता है और नींद भी अच्छी आती है।

6-उच्च रक्तचाप
उच्च रक्तचाप के रोगी को शंखपुष्पी का काढ़ा बना कर सुबह और शाम पीना चाहिए। दो कप पानी में दो चम्मच चूर्ण डालकर उबालें। जब आधा कप रह जाए उतारकर ठंडा करके छान लें। यही काढ़ा है। दो या तीन दिन तक पियें उसके बाद एक-एक चम्मच पानी के साथ लेना शुरू कर दें रक्तचाप सामान्य होने तक लेतें रहें।

7-बिस्तर में पेशाब
कुछ बच्चे बड़े हो जाने पर भी सोते हुए बिस्तर में पेशाब करने की आदत नहीं छोड़ते। एसे बच्चों को आधा चम्मच चूर्ण शहद में मिलाकर सुबह शाम चटा कर ऊपर से ठंडा दूध या पानी पिलाना चाहिए। यह प्रयोग लगातार एक महीनें तक करें।

8-शक्तिवर्धन के लिए शंखपुष्पी
शंखपुष्पी पंचांग, ब्राह्मी, अश्वगंधा, बादाम की गिरी, कद्दू की गिरी, तरबूज की गिरी, छोटी इलायची, सौंफ, काली मिर्च ,आंवला, ख़स ख़स आदि सभी १० – १० ग्राम की मात्रा में लेकर मोटा मोटा कूट पीसकर रख लें। सम्पूर्ण ग्रीषम ऋतू में इसका ठंडा पेय (ठंडाई) बनाकर सेवन करने से शारीरिक व् मानसिक दोनों रूप में शक्ति की प्राप्ति होती है। बौद्धिक कार्य करने वालों में इसके सेवन से स्मरण शक्ति बढ़ती है, ध्यान में एकाग्रता आती है और वे अधिक सुगमता से निर्णय ले सकने के योग्य बनते है। शंखपुष्पी का सेवन शरद ऋतू में अत्यंत सावधानी से करना चाहिए अथवा दुर्बल रोगियों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

9-प्रमेह श्वांस व् पाचक रोगों में
शंखपुष्पी, सेमल के फूल, दालचीनी, इलायची बीज, अनंत मूल, हल्दी, दारुहल्दी, श्यामलता, खसखस, मुलहठी, सफ़ेद चन्दन, आंवला, सफ़ेद मूसली, भारंगी, पिली हरड़ छिलका, देवदारु, वंशलोचन और लोह भस्म सभी बराबर बराबर मात्राओं में लेकर उनका महीन चूर्ण बना लें। इस चूर्ण का २- ४ ग्राम की मात्रा में दिन में दो बार प्रातः एवं सांय पानी के साथ सेवन करें।

इस चूर्ण के सेवन से सभी प्रकार के मूत्र सम्बन्धी (प्रमेह रोग), खांसी, श्वांस रोग, पीलिया, बवासीर आदि में आराम आ जाता है। मस्तिष्क की स्मरण शक्ति बढ़ती है, पाचन क्रिया सुधरती है, शरीर में नया उत्साह आता है। ऐसा माना जाता है के बवासीर रोग की उत्पत्ति अजीर्ण होने के पश्चात मल, मूत्र के अवरोध, गुदा नलिका और बृहदान्त्र की श्लेष्मिक कला में उग्रता, उदर में वायु भरने और रक्त में विष वृद्धि होने पर होती है। यह औषिधि रोग के मूल कारणरूप मूत्रावरोध आदि को दूर करती है, जिससे रोग की उत्पत्ति ही नहीं होती।

शंखपुष्पी की सेवन विधि

शंखपुष्पी का समग्र क्षुप अर्थात पंचांग ही एक साथ औषधीय उपयोग के काम आता है। इस पंचांग को सुखाकर चूर्ण या क्वाथ के रूप में अथवा ताजा अवस्था में स्वरस या कल्क के रूप में प्रयुक्त किया जाता है। इनकी सेवन की मात्रा इस प्रकार है।
शंखपुष्पी पंचांग चूर्ण – ३ से ६ ग्राम की मात्रा में दिन में दो या तीन बार।
शंखपुष्पी स्वरस – २० से ४५ मि ली दिन में दो या तीन बार।
शंखपुष्पी कल्क – १० से २० ग्राम दिन में दो या तीन बार।

इनके अतिरिक्त शंखपुष्पी से निर्मित ऐसे कई शास्त्रोक्त योग है, जिन्हें विभिन्न रोगों में उपयोग कराया जाता है। जैसे के शंखपुष्पी रसायन, सोमघृत, ब्रह्मा रसायन, अगस्त्य रसायन, वचाघृत, जीवनीय घृत, ब्रह्मघृत इत्यादि।

और भी प्रमुख जड़ी-बूटियों के बारे में पढ़े……

Sending
User Review
0 (0 votes)
loading...

Leave a Comment